न्यू विंध्याचल चालीसा लिरिक्स हिंदी और अंग्रेजी में 2023

Views: 6515
2 0
समय पढ़ें:7 मिनट, 13 सेकंड

विंध्याचल चालीसा देवी को समर्पित एक भक्ति भजन है विंध्यवासिनी, जिन्हें देवी दुर्गा (आदि-शक्ति) का एक रूप माना जाता है। यह राग चालीस छंदों या चौपाइयों के रूप में है और देवी से आशीर्वाद पाने के लिए भक्तों द्वारा इसका जाप किया जाता है।

भजन की शुरुआत दोहा या दोहे से होती है जिसमें देवी का आह्वान किया जाता है और उनका आशीर्वाद मांगा जाता है। निम्नलिखित चालीस श्लोक देवी के विभिन्न गुणों और विशेषताओं का वर्णन करते हैं और उनकी शक्ति और महिमा का गुणगान करते हैं।

चालीसा में देवी के विभिन्न रूपों, जैसे उमा, माधवी, चंडिका और हेमावती का भी उल्लेख है और उन्हें विंध्याचल के रक्षक के रूप में वर्णित किया गया है।

माना जाता है कि विंध्याचल चालीसा का जाप करने से भक्त को शांति, समृद्धि और आध्यात्मिक उत्थान मिलता है और यह अक्सर त्योहारों और शुभ अवसरों के दौरान किया जाता है।

विंध्याचल चालीसा एक हिंदू भक्ति भजन है जो देवी विंध्यवासिनी को समर्पित है, जिन्हें विंध्येश्वरी या जगदंबा के नाम से भी जाना जाता है। चालीसा में चालीस छंद हैं और ऐसा माना जाता है कि इसकी उत्पत्ति इसी से हुई है विन्ध्य पर्वत भारत में रेंज.

भजन की शुरुआत भक्त द्वारा देवी को नमस्कार करने और उन्हें सर्वोच्च शक्ति के रूप में स्वीकार करने से होती है। फिर, इसमें देवी के विभिन्न रूपों और दिव्य गुणों का वर्णन किया गया है। यह चालीसा का पाठ करने के कई लाभों पर भी प्रकाश डालता है, जैसे सांसारिक और आध्यात्मिक सफलता प्राप्त करना, कष्टों से मुक्ति और इच्छाओं की पूर्ति।

विंध्याचल चालीसा को देवी का आशीर्वाद प्राप्त करने के लिए एक शक्तिशाली उपकरण माना जाता है और अक्सर विशेष अवसरों और त्योहारों के दौरान भक्तों द्वारा इसका पाठ किया जाता है। ऐसा माना जाता है कि भक्ति और ईमानदारी से चालीसा का पाठ करने से व्यक्ति के जीवन में सकारात्मक बदलाव आ सकते हैं और आध्यात्मिक विकास हो सकता है।

Vindhyachal Chalisa
विंध्याचल देवी

विंध्याचल चालीसा लिरिक्स हिंदी में

|| दोहा ||

नमो नमो विन्ध्येश्वरी, नमो नमो जगदम्ब।
संत जॉन के काज में, बिलंब नहीं करता॥

|| चौपाई ||

जय जय जय विन्ध्याचल रानी। आदि शक्ति जगबिदित भवानी॥
सिंह वाहिनी जय जगमाता। जय जय जय त्रिभुवन सुखदाता॥

कष्ट निवारिणी जय जग देवी। जय जय संत असुर सुरसेवी॥
महिमा अपार अमित विवाह। शेष सहस मुख बरनत हारी॥

दीन के दु:ख हरत भवानी। नहिं देख्यो तुम सम कोउ दानी॥
सब कर मनसा पूर्ववत माता। महिमा अमित जगता॥

जो जन ध्यान तुम्हारो लावे। सो तुरतहिं नारायण फल पावे॥
तू ही वैष्णवी तू ही रुद्राणी। तू ही सारदा अरु ब्रह्मानि॥

रमा राधा श्यामा काली। तू ही मत संतन प्रतिपाली॥
उमा माधवी चंडी बम। बेगी मोहि पर होहु दयाला॥

तुम ही हिंगलाज महारानी हो। तुम ही शीतला अरु बिजनी॥
तुम्हीं लक्ष्मी जग सुख दाता। दुर्गा दुर्ग बिनासिनी माता॥

तुम ही बाबा अरु उन्नानि। हेमावती अम्बे निर्वाण॥
अष्टभुजी बरहिनि देवा। करत विष्णु शिव पर्यटक सेवा॥

चौसट्टी देवी कल्याणी। गौरी मंगला सब गुण खानी॥
पाटण मुंबा दंत कुमारी। भद्रकाली सुन विनी हमारी॥

बज्रधारिणी सोक नासिनि। आयु रचिनी विन्ध्यवासिनी॥
जया और विजया बैटरी। मातु संकटी अरु बिकरालि॥

नाम अनंत तुम्हारा भवानी। बरनै किमि मानुष अज्ञानी॥
जापर कृपा मातु तव होई। तो वह करै छै मन जोइ॥

कृपा करहु मोपर महारानी। सिद्ध करिये अब यह मम बानि॥
जो नर धरै मातु कर ध्याना। ताकर सदा होय कल्याणा॥

बिपत्ति ताहि स्वप्नहु नहि आवै। जो देवी का जाप करावै॥
जो नर कहे रिन होय अपारा। सो नर पाठ करे सतबारा॥

निःचय ऋणमोचन होइ जय। जो नर पाठ करे मन लाइ॥
अस्तुति जो नर पढ़ै पढ़वै। या जग में सो बहु सुख पावै॥

जाको बिधि सतावै भाई। जप करत सब दूर पराई॥
जो नर अति बंदी महँ होई। बार हजार पाठ कर सोई॥

नि:चय बन्दी ते छूटि जाई। सत्य वचन मम मनहु भाई॥
जापर जो कुछ संकट होई। नि:चय देबिहि सुमिरै सोइ॥

जा कहूँ बेटा होय नहीं भाई। सो नर या विधि करै उपाई॥
पांच बजर सो पाठ करावै। नौरात महँ बिप्र जिमावै॥

निःचय होहि प्रसन्न भवानी। पुत्र देहि ताखँ गुन खानी॥
ध्वजा कोआँ चढ़ावै। सम्मिलित विधि पूजन करवावै॥

नित प्रति पाठ करै मन लाई। प्रेम नहिं आन उपाई॥
यह श्री विन्ध्याचल चालीसा। रंक पढत होवै अवनीसा॥

यह जनि अचरज मनहु भाई। कृपया दृष्टि जापर ह्वै जाई॥
जय जय जय जग मातु भवानी। कृपा करहु मोहि पर जन जानी॥

|| इति श्री विन्ध्येश्वरी चालीसा समाप्त ||

अंग्रेजी में विंध्याचल चालीसा गीत

|| दोहा ||

नमो नमो विंध्येश्वरी, नमो नमो जगदंब।
संत जानो के काज में, कराति नहि विलाम्ब।

|| चौपाई ||

जय जय जय विंध्याचल रानी, आदि शक्ति जगविदित भवानी।
सिंहवाहिनी जय जगमाता, जय जय जय त्रिभुवन सुखदाता।

कष्ट निवाणिनी जय जग देवी, जय जय संत असुर सुरसेवी।
महिमा अमित अपार तुम्हारी, शेष सहस मुख बरनत हरि।

दीनन के दुःख हरत भवानी, नहीं देख्यो तुम सम कोउ दानी।
सब कर मनसा पूर्वत माता, महिमा अमित जगत विख्याता।

जो जन ध्यान तुम्हारो लावे, सो तुरतिहिं वंचित फल पावे।
तू ही वैष्णवी तू ही रुद्राणी, तू ही शारदा अरु ब्रह्माणी।

रामा राधिका श्यामा काली, तू ही मातु संतान प्रतिपाली।
उमा माधवी चंडी ज्वाला, बेगि मोहि पर होहु दयाला।

तुम ही हिंगलाज महारानी, तुम ही शीतला अरू बिग्याणी।
तुम्हीं लक्ष्मी जग सुख दाता, दुर्गा दुर्ग बिनासिनी माता।

तुम ही जान्हवी अरु उन्नानि, हेमावती अम्बे निर्बानी।
अष्टभुजी बरहिनी देवा, करत विष्णु शिव जकार सेवा।

चौसत्ती देवी कल्याणी, गौरी मंगला सब गुण खानी।
पाटन मुंबा दंत कुमारी, भद्रकाली सन विनय हमारी।

बज्रधारिणी सोकनासिनी, आयु रच्छनि विन्ध्यवासिनी।
जया और विजया वैतालि, मातु संकटति अरु बिकरालि।

नाम अनंत तुम्हार भवानी, बरनानै किमी मानुष अज्ञानी।
जपर कृपा मातु तव होई, तो वाह करे चाहे मन जोई।

कृपा कराहु मोपर महारानी, सिद्ध करै अब ये मम बानी।
जो नर धरे मातु कर ध्यान, ताका सदा होय कल्याण।

बिपति ताकी सपनेहु नहि आवे, जो देवी का जप करावे।
जो नर कहे नैन होइ अपारा, सो नर पथ करे सतबारा।

निश्चय ऋणमोचन होइ जाई, जो नर पथ करे मन लै।
या स्तुति जो नर पढ़े पढ़वे, या जग में सो बहु सुख पावे।

जाको ब्याधि सतावे भाई, जप करत सब दूर पराई।
जो नर अति बन्दी महँ होई, बर हजार पथ कर सोई।

निश्चय बन्दी ते छूटि जाई, सत्य वचन मम मनहु भाई।
जपर जो कुछ संकट होई, निश्चय देबिहिं सुमिरे सोई।

जा कहां पुत्र होइ नहिं भाई, सो नर या विधि करे उपाई।
पंच बारस सो पथ करावे, नौरात महं विपिर जिमावे।

निश्चय होहि प्रसन्ना भवानी, पुत्र देहि ताकाहं गुनखानि।
ध्वजा नारियाल आन चढ़ावे, विधि समेट पूजन करावे।

नित प्रति करे मन लाई, प्रेम सहित नहीं आन उपाई।
ये श्री विंध्येश्वरी चालीसा, रंक पढ़त होवे अवनीसा।

ये जानि अचरक मनहु भाई, कृपा दृष्टि जपर ह्वै जय।
जय जय जय जग मातु भवानी, कृपा करहु मोहि प्रजा जानी।

.. इति विंधेश्वरी चालीसा समाप्त ।।

विंध्याचल पर कौन सा शक्ति पीठ है?

विंध्यवासिनी देवी मंदिर को 51 प्रतिष्ठित शक्तिपीठों में से एक माना जाता है, जहां देवी सती के पूर्ण दिव्य अवतार को अत्यधिक श्रद्धा के साथ रखा जाता है।

एक टिप्पणी छोड़ें

गलती: सामग्री सुरक्षित है!!
hi_INHindi