नवरात्रि 2023: नवरात्रि क्या है? नवरात्रि महोत्सव का वैज्ञानिक एवं आध्यात्मिक रहस्य?

दृश्य: 1185
2 0
समय पढ़ें:7 मिनट, 15 सेकंड

नवरात्रि भारत और नेपाल में मनाया जाने वाला एक हिंदू त्योहार है। इसके अलावा यह त्यौहार दुनिया भर में हिंदू समुदाय द्वारा मनाया जाता है। इस त्योहार के दौरान नौ दिनों तक मां दुर्गा की पूजा की जाती है। त्योहार के नौ दिनों के दौरान होने वाली पूजा, उपवास और विभिन्न प्रकार के व्रतों से नवरात्रि का महत्व बढ़ जाता है।

वैज्ञानिक दृष्टिकोण से, नवरात्रि उत्सव के दौरान प्रकृति के तीन गुणों (तमोगुण, रजोगुण, सत्त्वगुण) के आनुपातिक भागों की पूजा की जाती है। इसके अलावा, यह त्यौहार भारतीय तंत्र शास्त्र में वर्णित मान्यताओं और अनुष्ठानों को संबोधित करता है।

आध्यात्मिक दृष्टिकोण से, नवरात्रि में माँ दुर्गा की पूजा और भक्ति से जुड़े कुछ आध्यात्मिक रहस्य हैं। के छठे से दसवें रूप माँ दुर्गा की पूजा की जाती है, जो विभिन्न गुणों का प्रतिनिधित्व करती है।

नवरात्रि के दौरान मां दुर्गा के नौ रूपों की पूजा की जाती है। नवरात्रि के नौ दिनों में हर दिन किसी न किसी रूप की पूजा की जाती है और इसका सम्मान करने से मां दुर्गा का आशीर्वाद प्राप्त होता है। नौ रूप हैं:

Navadurga navratri
शॉटगनमैवरिक्स, CC BY-SA 4.0 https://creativecommons.org/licenses/by-sa/4.0, विकिमीडिया कॉमन्स के माध्यम से

शैलपुत्री: पहले दिन इसी स्वरूप की पूजा की जाती है। माँ शैलपुत्री वीरभद्र की पत्नी हैं और पहाड़ों की देवी के रूप में जानी जाती हैं। इनकी पूजा से दृढ़ता और स्थिरता मिलती है। शैलपुत्री देवी दुर्गा के नौ स्वरूपों में से प्रथम हैं और इन्हें नवरात्रि के पहले दिन मां के रूप में पूजा जाता है। शैलपुत्री का अर्थ है "पर्वत की बेटी," और वह पर्वत राजा हिमवत की बेटी मानी जाती है। उनकी मूर्ति के एक हाथ में त्रिशूल और एक हाथ में कलश है।

Shailaputri Sanghasri 2010 Arnab Dutta navratri
जोनोइकोबंगाली, CC BY-SA 3.0 https://creativecommons.org/licenses/by-sa/3.0, विकिमीडिया कॉमन्स के माध्यम से

शैलपुत्री देवी को पर्वत राजा हिमवत की पुत्री माना जाता है और इनके स्वरूप में पर्वत राजा के साथ दुर्गा माता का भी समावेश देखा जाता है। उन्हें धरती माता का अवतार माना जाता है और उनकी पूजा से पृथ्वी का कल्याण और सुरक्षा होती है। उन्हें महिषासुर मर्दिनी भी कहा जाता है, जो दुर्गा माता के इसी रूप से संबंधित है।

शैलपुत्री देवी की पूजा करने से भक्तों को दीर्घायु, शांति और समृद्धि मिलती है। भक्तों को उनकी समस्याओं और दुखों से छुटकारा मिलता है और समृद्धि प्राप्त होती है।

Brahmacharini: दूसरे दिन इसी स्वरूप की पूजा की जाती है। माँ ब्रह्मचारिणी नाम वेदों की ब्रह्मचारिणी ऋषिकाओं से लिया गया है। इनकी पूजा करने से तप और ज्ञान की प्राप्ति होती है। ब्रह्मचारिणी देवी दुर्गा के नौ रूपों में से एक है। नवरात्रि के पांचवें दिन उनका सम्मान किया जाता है। ब्रह्मचारिणी का अर्थ है "ब्रह्मचर्य का पालन करने वाली।" उनका स्वरूप वेदों का अनुसरण करते हुए दर्शाया गया है। उनकी मूर्ति के एक हाथ में कमंडल और कुंडल है।

Brahmacharini navratri
अम्बर_किले में चांदी का दरवाजा,_राजस्थान.jpg: एडमिनडेरिवेटिव कार्य: Redtigerxyz, CC BY 2.0 https://creativecommons.org/licenses/by/2.0, विकिमीडिया कॉमन्स के माध्यम से

ब्रह्मचारिणी देवी ध्यान में रहती हैं और साधना का पालन करती हैं। इनका स्वभाव बहुत शांतिपूर्ण होता है. इनकी पूजा से भक्तों को मन की शुद्धि, अनुशासन और आध्यात्मिक प्रगति मिलती है। उनकी कृपा से भक्तों के हृदय को शांति मिलती है और उनकी मनोकामनाएं पूर्ण होती हैं।

माँ दुर्गा कौन हैं? यह वास्तविक कहानी देखें | स्वामी मुकुंदानंद

चंद्रघंटा: तीसरे दिन इसी स्वरूप की पूजा की जाती है। मां चंद्रघंटा के दोनों सिंहों के बीच में चंद्रमा है। उनकी पूजा करने से उन्हें स्वास्थ्य और शक्ति मिलती है। चंद्रघंटा देवी दुर्गा के नौ रूपों में से एक है। नवरात्रि के तीसरे दिन उनका सम्मान किया जाता है। चंद्रघंटा का नाम इसकी चंद्रकला के आधार पर रखा गया है। उसके दो हाथ हैं और वह चंद्रमा के समान दिखती है। उनकी मूर्ति भी ऐसी ही है.

चंद्रघंटा देवी का स्वरूप भी उग्र है। इनके शरीर पर बड़ी भारी तीखी नाक, छोटी चमकीली आंखें और नुकीले दांत होते हैं। वह एक हाथ में तलवार और दूसरे हाथ में त्रिशूल पकड़े नजर आ रहे हैं। उनके मस्तक पर शंख भी है।

Chandraghanta Sanghasri 2010 Arnab Dutta navratri
जोनोईकोबंगालीसीसी बाय-एसए 3.0, विकिमीडिया कॉमन्स के माध्यम से

चंद्रघंटा देवी की पूजा शक्ति की महिमा का प्रतीक है। इनकी पूजा करने से भक्तों की सभी मनोकामनाएं पूरी होती हैं और उन्हें सफलता, शांति और समृद्धि मिलती है। चंद्रघंटा देवी की कृपा से भक्तों की आने वाली परेशानियां दूर हो जाती हैं।

Kushmanda: इस स्वरूप का वाहन कछुआ है और ये छड़ी धारण करती हैं। इस स्वरूप के दर्शन से रोगों से मुक्ति मिलती है। कुष्मांडा देवी दुर्गा के नौ रूपों में से एक है। नवरात्रि के चौथे दिन इनकी पूजा की जाती है। उनका नाम 'कुष्मांडा' संस्कृत शब्द 'कुष्मांड' से लिया गया है, जिसका पंजाबी में अर्थ है "व्यंग्य।"

कुष्मांडा देवी का स्वरूप उग्र है। उन्हें एक हाथ से खड़ग खाते हुए और दूसरे हाथ से डाकिनी और शाकिनी नाम की दो शक्तियों को खाते हुए दिखाया गया है। एक खूनी मुंह और एक भूखा शेर है जिसके सिर पर डाकिनी और शाकिनी हैं।

Kushmanda Sanghasri 2010 Arnab Dutta navratri
जोनोइकोबंगाली, CC BY-SA 3.0 https://creativecommons.org/licenses/by-sa/3.0, विकिमीडिया कॉमन्स के माध्यम से

कुष्मांडा देवी का प्रयोग विभिन्न तांत्रिक और यौगिक प्रयोगों में किया जाता है। यह देवी अपने भक्तों को सार्वभौमिक शक्ति प्रदान करती है और उन्हें आत्म-संयम, समझौता और सद्भाव की ओर ले जाती है। यह देवी अपने भक्तों को रोगमुक्ति भी प्रदान करती हैं और उन्हें सभी प्रकार के कष्टों से मुक्ति दिलाती हैं।

स्कंदमाता: इस स्वरूप का वाहन सिंह है और ये चांदी का चक्र धारण करती हैं। इस स्वरूप के बारे में सुनकर लोग आदर और श्रद्धा का भाव व्यक्त करते हैं। स्कंदमाता देवी दुर्गा के नौ रूपों में से एक है। नवरात्रि के पांचवें दिन इनकी पूजा की जाती है। इस देवी को भगवान कार्तिकेय की माता और माता पार्वती का रूप माना जाता है।

स्कंदमाता का नाम स्कंद (भगवान कार्तिकेय) और माता (मां पार्वती) से मिलकर बना है। उनके चार हाथ हैं, जिनमें से एक हाथ में भगवान कार्तिकेय उत्तम वस्त्र पहने हुए दर्शाए गए हैं। उनके दूसरे हाथ में शंख और तीसरे हाथ में जटा है। चौथे हाथ में देवी अपने पुत्र भगवान कार्तिकेय को धारण करती हैं।

Skandamata Sanghasri 2010 Arnab Dutta navratri
जोनोईकोबंगालीसीसी बाय-एसए 3.0, विकिमीडिया कॉमन्स के माध्यम से

देवी स्कंदमाता की पूजा करने से भक्तों को धन, समृद्धि, स्वास्थ्य और दीर्घायु की प्राप्ति होती है। यह देवी भक्तों की सभी मनोकामनाएं पूरी करती हैं और उन्हें समस्याओं से मुक्ति दिलाती हैं। देवी स्कंदमाता की कृपा से भक्तों का जीवन सुखी और समृद्ध होता है।

कात्यायिनी देवी दुर्गा का एक रूप है, जिसकी नौ दिनों तक नौ रूपों में पूजा की जाती है। नवरात्रि के पांचवें दिन इनकी पूजा की जाती है। कहा जाता है कि देवी कात्यायिनी की पूजा से भक्तों की सभी मनोकामनाएं पूरी होती हैं।

Katyayani Sanghasri 2010 Arnab Dutta navratri
जोनोइकोबंगाली, CC BY-SA 3.0 https://creativecommons.org/licenses/by-sa/3.0, विकिमीडिया कॉमन्स के माध्यम से

कात्यायिनी देवी को माता पार्वती और महादेव शिव की संतान माना जाता है। कुशद्वीप के ऋषि कात्यायन ने उन्हें अपनी तपस्या से प्रसन्न किया था। कात्यायिनी देवी का वाहन बाघ है, इनके हाथों में तलवार और शंख है। इनका स्वरूप सुन्दर एवं भयंकर है।

कालरात्रि: देवी दुर्गा के नौ रूपों में से एक। नवरात्रि के सातवें दिन इनकी पूजा की जाती है। कालरात्रि का अर्थ है अमावस्या के बाद की 'काली रात'।

कालरात्रि देवी का स्वरूप उग्र एवं रौद्र है। उनके हाथों में खड़ग और खप्पर हैं और उनकी आंखें लाल हैं। इनका वाहन दो सिंह है। यह देवी नशा, पाप, राक्षसों और रोग से मुक्ति दिलाती हैं और अपने भक्तों को शक्ति, संयम और सफलता प्राप्त करने में मदद करती हैं।

Kalratri Sanghasri 2010 Arnab Dutta navratri
जोनोइकोबंगाली, CC BY-SA 3.0 https://creativecommons.org/licenses/by-sa/3.0, विकिमीडिया कॉमन्स के माध्यम से

देवी कालरात्रि की पूजा करने से भक्तों के सभी दुख नष्ट हो जाते हैं और उन्हें शक्ति मिलती है जो उन्हें अपने जीवन में सफलता और समृद्धि की ओर बढ़ने में मदद करती है।

महागौरी: देवी दुर्गा के नौ रूपों में से एक। नवरात्रि के आठवें दिन उनका सम्मान किया जाता है।

महागौरी देवी का स्वरूप निर्मल, निर्मल एवं निर्मल है। उनकी आंखें और त्वचा विराजमान हैं और उनके पास त्रिशूल और खड्ग हैं। इनका वाहन गाय है।

Mahagauri Sanghasri 2010 Arnab Dutta navratri
जोनोइकोबंगाली, CC BY-SA 3.0 https://creativecommons.org/licenses/by-sa/3.0, विकिमीडिया कॉमन्स के माध्यम से

पूजनीय महागौरी देवी भक्तों को पवित्रता, संयम और शाश्वत शक्ति प्रदान करती हैं। यह देवी भक्तों के दुखों को दूर करती हैं और उन्हें धन, समृद्धि और सफलता प्राप्त करने में मदद करती हैं।

सिद्धिदात्री: इनकी पूजा नवरात्रि के आठवें या नौवें दिन की जाती है। सिद्धिदात्री का अर्थ है "सिद्धियों की देवी", जो भक्तों को धन, संपदा, सफलता और समृद्धि प्रदान करती है।

सिद्धिदात्री देवी के स्वरूप में दो हाथ हैं, जिनमें अंगूठी, त्रिशूल, घड़ा आदि अनेक प्रकार के हथियार हैं। इनका वाहन सिंह है। इस देवी की पूजा सफलता, समृद्धि, धन और ऐश्वर्य प्राप्ति के लिए की जाती है।

Siddhidatri Sanghasri 2010 Arnab Dutta navratri
जोनोइकोबंगाली, CC BY-SA 3.0 https://creativecommons.org/licenses/by-sa/3.0, विकिमीडिया कॉमन्स के माध्यम से

देवी सिद्धिदात्री की पूजा भक्तों को असफलता और निराशा से मुक्त करती है और उन्हें सफलता, समृद्धि और धन प्रदान करती है। इस देवी की कृपा से भक्तों के अधिकांश कार्य सिद्ध होते हैं और वे अपने जीवन में सफलता की ऊंचाइयों को छू सकते हैं।

खुश
खुश
33 %
उदास
उदास
0 %
उत्तेजित
उत्तेजित
67 %
उनींदा
उनींदा
0 %
गुस्सा
गुस्सा
0 %
आश्चर्य
आश्चर्य
0 %

एक टिप्पणी छोड़ें

गलती: सामग्री सुरक्षित है!!
hi_INHindi
जय मां विंध्यवासिनी चैत्र नवरात्रि 2023 | महत्व, उत्सव